विश्व पुस्तक मेला के प्रति यह उदासीनता क्यों? : अनामी शरण बबल 

विश्व पुस्तक मेला को लेकर लगता है एक उदासीनता का माहौल भी समाज में यानी लेखक और पाठक वर्ग में पनपने लगा है शायद। तीनदिन मेला खत्म हो गया है पर मैं कुछ कारणों से […]

यह है डिजिटल भारत। अब अगर मेट्रो कार्ड 500 रूपए का चार्ज कराएंगे तो देना होगा 504 रूपए।

ऐसे कैसे भारत बनेगा कैशलेस, जब हर चीज में मांगा जाएगा टैक्स भारत को कैशलेस इकोनॉमी बनाने का जो सपना पीएम मोदी ने देखा है, वह शायद साकार न हो सके। दिल्ली के एक आम […]

आईए, करीना-सैफ के पुत्र तैमूर का स्वागत करें : राम पुनियानी

  हमारे समाज पर सांप्रदायिक मानसिकता की जकड़न भयावह है। हमारा समाज इतिहास को राजाओं के धर्म के चश्मे से देखता है। सांप्रदायिक विचारधारा, इतिहास की चुनिंदा घटनाओं और व्यक्तित्वों का इस्तेमाल, इतिहास का अपना […]

आधुनिकता ज़रूरी या संस्कृति : हृदय गुप्ता

आधुनिक दौर टेक्नोलॉजी व तेज़ी का युग है और पूरा विश्व इसके साथ चलना चाहता है और बेशक चल भी रहा है | भारत एक ऐसा देश है जो विभिन्न संस्कृति, धर्म और जीवनशैलियों से […]

सर्विस चार्ज का ऑप्शन दे सरकार ने फंसा दिया

रेस्टोरेंट में डिनर के बाद आपको इंतजार फूड बिल का रहता है. बिल आते ही आपकी नजर फूड बिल पर लगे टैक्स और चार्जेज पर पड़ती है. फूड बिल में आमतौर पर तीन तरह के […]

सपा कुनबे में नहीं हुई अभी सुलह, अपने खेमे से बातचीत कर रहे हैं मुलायम सिंह यादव

बाप-बेटों के बीच बंट चुकी समाजवादी पार्टी की लड़ाई अब ‘साइकिल’ के लिए दिल्ली में जारी है तो लखनऊ में सुलह की कोशिशें भी होती दिख रही हैं. पार्टी चिन्ह साइकिल किसका होगा इसके लिए […]

क्या है पेटीएम की सच्चाई

– गिरीश मालवीय  एक बात तो आप सभी मानेंगे कि नोटबंदी से सबसे अधिक फायदा पेटीएम को ही पुहंचा है…….पेटीएम से रोजाना 70 लाख सौदे होने लगे हैं जिनका मूल्य करीब 120 करोड़ रपये तक […]