First News live

नौएडा में बिजलाइफ के निवेशकों/खरीददारों के साथ धोखाधडी

biz-n

नौएडा, 12 मई। नौएडा में खरीददारों एवं निवेशकों के साथ करोड़ों की धोखाधड़ी का एक और मामला सामना आया है। प्रोपलरिटी इंफ्राटेक प्रा. लिमिटेड नामक रियल इस्टेट कंपनी की ओर से नौएडा के सेक्टर-62 में प्रस्तावित बिजलाइफ प्रोजेक्ट के निवेशकों एवं खरीददारों का कहना है कि उनके साथ बिल्डर ने धोखाधडी करके 250 करोड़ रूपए से अधिक का घोटाला किया है।
बिजलाइफ प्रोजेक्ट के खरीददार बिल्डर के खिलाफ लंबे आंदोलन की तैयारी में हैं। इन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है तथा नौएडा आथिरिटी के अधिकारियों के समक्ष भी अपनी शिकायत रखी है।
इन खरीददारों ने कहा कि अगर इनकी शिकायत का समाधान नहीं हुआ तो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी तथा मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी तथा सेे गुहार लगाएंगे।
इन खरीददारों/निवेशकों का प्रतिनिधिमंडल आज नौएडा के सेक्टर 14ए में स्थिति एसएसपी कार्यालय में एसएसपी श्री लव कुमार को ज्ञापन सौंपने वाला है। इन्होंने प्रोपलरिटी इंफ्राटेक प्रा. लिमिटेड के निदेशक सत्येन्द्र सिंह तोमर के खिलाफ कारवाई की मांग की। ज्ञापन में कहा गया है कि इस कंपनी ने 250 करोड़ से अधिक का घोटाला किया है।
खरीददारों का कहना है कि करीब 1000 निवेशकों/खरीददारों ने 2015 में बिजलाइफ प्रोजेक्ट में आफिस स्पेस/शॉप के लिए पैसे के भुगतान किए थे और बिल्डर ने 2017 में प्रोजेक्ट को पूरा करके हमें आफिस/शॉप देने का लिखित वायदा किया था लेकिन दो साल से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी प्रोजेक्ट में 2 प्रतिषत का काम नहीं हुआ है और पिछले करीब एक साल से पूरा काम बंद है, बिल्डर का आफिस बंद है, उसकी वेबसाइट, ईमेल एवं टेलीफोन बंद है। बिल्डर ने पिछले छह माह से अपने कर्मचारियों को भी भुगतान नहीं किया है और सारे कर्मचारी कंपनी को छोड़ चुके हैं। कुछ खरीददारों ने 2016 में वर्चुयल स्पेस के लिए पैसे लगाए थे। कई निवेशकों को सुनिष्चित रिर्टन (एआर) के तौर पर चैके दिए गए थे जो वाउंस कर गए हैं।
खरीददारों/निवेशकों का आरोप है कि बिल्डर प्रोपरलिटी इंफ्रोटेक प्राइवेट लिमेटड के निदेशक सत्येन्द्र सिंह तोमर एवं अन्य निदेशकों ने मिलकर करीब 1000 निवेशकों/खरीददारों को करीब 11100 यूनिट बेची तथा खरीददारों/निवेशकों से 250 करोड़ रूपए से अधिक की रकम जुटा ली। लेकिन खरीददारों/निवेशकों को उनके पैसे डबूने की आशंका है। कंपनी के अन्य निदेशकों में पवन जसुजा, सौरभ पाण्डे, नागेन्द्र प्रताप सिंह, आशीष कुमार, संदीप कौशिक, प्रशांत कुमार, अतुल विक्रम सिंह, विशल खैरावत, आजित कुमार गुप्ता, संजय जैन और मलय अग्रवाल शामिल हैं।
खरीददारों/निवेशकों ने आषंका जताई है कि ये सभी करोड़ रूपए हड़प कर विदेश भागने की तैयारी में हैं। इस संबंध में पुलिस थाना, सेक्टर – 58, नौएडा में भी लिखित शिकायत की जा चुकी है।

Leave a Comment

First News live